TaazaTales WhatsApp Channel Join Now
TaazaTales Telegram Channel Join Now

PM Modi has launched Rooftop Solar scheme for 1 crore houses: प्रधानमंत्री मोदी ने 1 करोड़ घरों को दिया है एक नया तोहफा, यह है नई योजना।

प्रधानमंत्री सूर्योदय योजना
प्रधानमंत्री सूर्योदय योजना image :X

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज (22 जनवरी) अयोध्या में रामलला के प्राण प्रतिष्ठा के कार्यक्रम से दिल्ली लौटते ही ‘प्रधानमंत्री सूर्योदय योजना’ लाने का ऐलान किया। इस योजना के तहत केंद्र सरकार देशभर में एक करोड़ घरों पर Rooftop सोलर सिस्टम लगाएगी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस बात की जानकारी अपने सोशल मीडिया हैंडल (ट्विटर) पर दी है। उन्होंने अपनी पोस्ट में कहा, ‘सूर्यवंशी भगवान श्री राम के आलोक से विश्व के सभी भक्तगण सदैव ऊर्जा प्राप्त करते हैं। आज अयोध्या में प्राण-प्रतिष्ठा के शुभ अवसर पर मेरा ये संकल्प और प्रशस्त हुआ कि भारतवासियों के घर की छत पर उनका अपना सोलर रूफ टॉप सिस्टम हो।

अयोध्या से लौटने के बाद मैंने पहला निर्णय लिया है कि हमारी सरकार एक करोड़ घरों पर Rooftop सोलर लगाने के लक्ष्य के साथ प्रधानमंत्री सूर्योदय योजना प्रारंभ करेगी। इससे गरीब और मध्यम वर्ग का बिजली बिल तो कम होगा ही, साथ ही भारत ऊर्जा के क्षेत्र में आत्मनिर्भर भी बनेगा।’

प्रधानमंत्री सूर्योदय योजना
प्रधानमंत्री सूर्योदय योजना image :X

आर्थिक रूप से कमजोर लोगों के घरों पर लगाए जाएंगे रूफ टॉप सोलर सिस्टम।

इस योजना के तहत सरकार आर्थिक रूप से कमजोर लोगों के घरों पर Rooftopसोलर इंस्टॉल करेगी। इससे उनकी खुद की बिजली की जरूरत तो पूरी होगी ही, साथ ही एक्सट्रा इलेक्ट्रिसिटी बेचकर कमाई भी कर सकेंगे। योजना के ऐलान के साथ ही पीएम मोदी ने कैंपेन के जरिए बड़ी संख्या में लोगों को जोड़ने की बात कही।

Read Also  Sony-Zee merger Deal: सोनी-ज़ी मर्जर डील रद्द होने के बाद अयोध्या पहुंचकर पुनीत गोयनका ने दिया बड़ा बयान।

क्या होता है ये रूफ Rooftop पैनल?

Rooftop सोलर पैनल घर की छत पर लगाए जाते हैं। इन पैनलों में सोलर की प्लेट लगी होती है। यह ऐसी तकनीक है जो सूर्य की किरणों से ऊर्जा सोखकर बिजली उत्पन्न करती है। पैनल में फोटोवोल्टेक सेल्स लगे होते हैं जो सौर ऊर्जा को बिजली में तब्दील कर देते हैं। यह बिजली वहीं काम करती है जो पॉवर ग्रिड से आई बिजली करती है।

Rooftop सोलर पैनल लगाने का खर्च

सोलर पैनल से बिजली प्रोड्यूस करने का खर्च पैनल के मॉड्यूल और इनवर्टर पर निर्भर करता है। 1 किलोवॉट का सोलर पैनल लगाने में 45 से 85 हजार रुपए तक का खर्च आता है। इसके अलावा बैटरी का खर्च होगा। इसी तरह 5 किलोवॉट का सोलर पैनल लगवाने पर 2.25 से 3.25 लाख रुपए तक का खर्च आ सकता है। हालांकि बिजली बिल का खर्च देखें तो 5-6 साल बाद आपका बिल जीरो हो जाएगा, क्योंकि 5-6 साल में पूरी लागत निकल जाएगी।

Rooftop सोलर पैनल सिस्टम से फायदे

  1. सोलर पैनल सिस्टम की मदद से घर में ही बिजली प्रोड्यूस की जा सकती है।

2. पावर ग्रिड से मिलने वाली बिजली की तुलना में ये सस्ती और सुविधाजनक है।

3. सोलर पैनल के लिए अलग से जगह की जरूरत नहीं, छत पर टांग सकते हैं।

Read Also  मैं जिंदा हूँ, पूनम पांडे ने जारी किया वीडियो। लोग हुए आग बबूला। Poonam Pandey Alive

4. सोलर पैनल के लिए सरकार सब्सिडी देती है, जिससे खरीदना आसान होता है।

5. सोलर पैनल की लाइफ 25 साल होती है, मरम्मत या मेंटेनेंस की जरूरत नहीं पड़ती।

6. इसे समय-समय पर साफ करना होता है, ताकि सूर्य की रोशनी पैनल पर ठीक से पड़े।

7. प्रदूषण नहीं होता, ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन में कमी आती है, पर्यावरण संरक्षण होता है।

सरकार द्वारा नेशनल Rooftop स्कीम में 40% सब्सिडी जा रही है।

फिलहाल केंद्र सरकार सोलर एनर्जी से जुड़ी एक योजना ‘नेशनल रूफटॉप स्कीम’ चला रही है। इस योजना के तहत अगर आप अपनी छत पर सोलर पैनल लगाना चाहते हैं तो 3 किलोवाट क्षमता के सोलर पैनल लगाने पर सरकार की ओर से 40% सब्सिडी दी जाती है।

अगर आप 10 किलोवाट लगाते हैं तो सरकार आपको 20% सब्सिडी देगी। इसके तहत लाभार्थी को मिनिस्ट्री ऑफ न्यू एंड रीन्यूएबल एनर्जी (MNRE) इसका चयन पावर डिस्ट्रिब्यूटर्स की ओर से दी गई जानकारी के आधार पर करता है।

Rooftop सोलर योजना फेज-2 के तहत 30 नवंबर 2023 तक देश में रूफटॉप सोलर से 2,651 मेगावाट क्षमता को स्थापित किया जा चुका है। सेंट्रल रीन्यूवेबल एनर्जी मिनिस्टर आरके सिंह ने हाल ही में बताया था कि रूफटॉप सोलर कार्यक्रम के दोनों फेज से अभी 10,407 मेगावाट बिजली का उत्पादन हो रहा है।

Read Also  Rooftop Solar Scheme: मुफ्त बिजली स्कीम के लिए रजिस्ट्रेशन शुरू,जानिए सबसे पहले क्या करना होगा?

31 मार्च 2026 तक मिलेगी सब्सिडी

हाल ही में रूफटॉप योजना के सेकेंड फेज को 31 मार्च 2026 तक बढ़ाया गया था। इस कार्यक्रम के तहत सामान्य श्रेणियों के राज्यों के लिए 3 किलोवाट क्षमता के पैनल के लिए प्रति किलोवाट 14,588 रुपए की सब्सिडी दी जा रही है। आरके सिंह ने बताया कि सेकेंड फेज कार्यक्रम के पूरा करने पर 11,814 करोड़ रुपए खर्च होंगे। इसमें केंद्रीय वित्तीय सहायता (CFA) 6600 करोड़ रुपए और वितरण कंपनियों को 4,985 करोड़ रुपए का प्रोत्साहन शामिल है।

ऐसे ही और लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें