TaazaTales WhatsApp Channel Join Now
TaazaTales Telegram Channel Join Now

Ram Mandir प्राणप्रतिष्ठा: हुआ बड़ा संयोग। नेपाल में 1967 में जारी डाक टिकट पर लिखा है राम मंदिर की प्राणप्रतिष्ठा का वर्ष हो गया है, वायरल।

Ram Mandir
Ram Mandir

Ram Mandir अयोध्या में 22 तारीख को प्रभु श्री राम अपने नए मंदिर में विराजमान होंगे। इसके साथ ही, राम मंदिर की चर्चा चारों ओर हो रही है। सोशल मीडिया पर एक डाक टिकट का वायरल होना भी हुआ है, जो नेपाल से 1967 में जारी किया गया था। इस डाक टिकट का मालिक, लखनऊ के निवासी अशोक कुमार, ने बताया है कि वह इसे अपने “द लिटिल म्यूजियम” में संग्रहित कर रखा है। यह डाक टिकट इसलिए दुर्लभ माना जा रहा है क्योंकि इसके पीछे एक रहस्य है, जिसे जानकर लोग हैरान हैं।

असल में भगवान श्री राम के ससुराल से जारी हुआ लगभग 57 साल पुराना एक डाक टिकट वायरल हो रहा है, जो काफी अद्भुत है। 1967 में इस डाक टिकट को जारी किया गया था और इसमें भगवान राम और सीता को समर्पित किया गया था, जिसमें सुरक्षित रूप से राम मंदिर की प्राणप्रतिष्ठा का वर्ष लिखा गया था। इस 15 पैसे के डाक टिकट पर रामनवमी 2024 लिखा हुआ है।

Ram Mandir
Ram Mandir

Ram Mandir प्राणप्रतिष्ठा: बहुत ही आद्भुत है यह डाक टिकट

द लिटिल म्यूजियम के मालिक अशोक कुमार ने बताया कि यह डाक टिकट नेपाल में 1967 में जारी हुआ था। इस डाक टिकट में भगवान श्रीराम धनुष-बाण के साथ हैं और उनके साथ माता सीता भी हैं। इस 15 पैसे के डाक टिकट पर ‘रामनवमी 2024’ लिखा हुआ है। इस डाक टिकट को राम नवमी के अवसर पर 18 अप्रैल, 1967 को लॉन्च किया गया था और उन्होंने बताया कि उन्होंने इसे किसी से खरीदा है।

Read Also  Aadhaar Card इस उद्देश्य के लिए उपयोग नहीं किया जा सकता, EPFO ने इसे Document सूची से हटा दिया है

Ram Mandir प्राणप्रतिष्ठा: यह टिकट 1967 में जारी हुआ था, लेकिन टिकट पर ‘रामनवमी 2024’ क्यों लिखा है?

अशोक कुमार ने बताया कि इस वायरल नेपाली डाक टिकट पर जो ‘रामनवमी 2024’ में लिखा है, वह अंग्रेजी कैलेंडर में नहीं बल्कि विक्रम संवत में लिखा है। विक्रम संवत अंग्रेजी कैलेंडर से 57 साल आगे चलता है, इसलिए साल 1967 में जारी हुए इस डाक टिकट पर 57 साल आगे का साल 2024 लिखा हुआ है। इसीलिए यह अद्भुत है क्योंकि इतने साल पहले जारी हुए इस टिकट पर पहले से ही प्राण प्रतिष्ठा की तारीख लिख दी गई थी।

ऐसे ही और आर्टिकल्स पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।