TaazaTales WhatsApp Channel Join Now
TaazaTales Telegram Channel Join Now

Success Story :- UP की बेटी इस तकनीक से सब्जियां उगाकर कर रही लाखों में कमाई, आप भी बन सकते हैं करोड़पति, बस करना होगा ये काम।

Success Story : यूपी की इस बेटी ने यह साबित कर दिया कि अगर किसी में कुछ कर गुज़ारने की चाह हो तो कोई उसे रोक नहीं सकता। पूर्वी मिश्रा की बेहतरीन तकनीक द्वारा की गई फार्मिंग ने इसे लाखों का मालिक बना दिया है। आइए जानें क्या है पूरी कहानी, यूपी की बेटी पूर्वी मिश्रा की।

पूर्वी मिश्रा की सक्सेस स्टोरी:

25 वर्ष की पूर्वी मिश्रा ने लंदन में पढ़ाई करने के बाद अपने देश में आकर इजरायल तकनीक द्वारा हाइड्रोपॉनिक फार्मिंग करके लाखों कमा रही हैं। इटावा जिले में फुफाई गाँव की रहने वाली 25 वर्षीय पूर्वी मिश्रा की चर्चा आजकल एक सफल किसान के रूप में बहुत अधिक हो रही है। इंडिया टुडे के डिजिटल प्लेटफ़ॉर्म किसान टैक से बातचीत में पूर्वी मिश्रा ने बताया है कि साल 2012 में लंदन से MBA करने के बाद उन्होंने हीरो कंपनी की मार्केटिंग का काम संभाला था और कोरोना के चलते जब सभी कारोबारों को नुकसान पहुंचा था, उसी समय पूर्वी मिश्रा के दिमाग में हाइड्रोपॉनिक फार्मिंग का आइडिया आया था और इसके लिए अपने गाँव में ऑटोमेटिक फार्म ‘बैक टू रूट्स’ तैयार किया और ये खेती की।

Read Also  इन्वेस्टर्स के नुकसान की कौन करेगा भरपाई? Groww app बंद होने पर भड़के लोग... कंपनी ने दिया जवाब।

हाइड्रोपॉनिक फार्मिंग क्या है:

पूर्वी ने बताया कि उनका एक फार्महाउस इटावा शहर में है जहाँ हाइड्रोपॉनिक तरीके से 5000 वर्ग फीट में मूसमी सब्जियां उगाई जाती हैं। हाइड्रोपॉनिक फार्मिंग में मिट्टी की जरुरत नहीं होती, ये खेती बिना मिट्टी के की जाती है, इसमें केवल पानी और पोषण तत्वों से उगाया जाता है, इस तरह की खेती को ‘जलीया खेती’ भी कहते हैं, इस तरह की खेती पर्यावरण के लिए भी अच्छी है क्योंकि ये खेती बिना मिट्टी और कम पानी की लागत से होती है जिससे पानी की बहुत बचत होती है। इस तरह की खेती में किसी भी तरह की खाद या रासायनिक की जरुरत नहीं होती, इसमें सिर्फ पानी और नारियल का स्क्रैप इस्तेमाल किया जाता है।

क्या-क्या उगाया जाता है इस खेती में:

पूर्वी मिश्रा ने बताया कि उन्होंने लाखों का पैकेज छोड़ कर ये काम करने की ठानी थी और वह इसमें कामयाब भी रही हैं। इसमें उनकी कई सालों की मेहनत और ज्ञान लगी है। उन्होंने बताया कि इस तरह की खेती में बैक्टीरिया रहित RO वॉटर से तैयार किया जाता है, इसमें बटर हेड, ग्रीक ओक, रेड ओक, लोकर्सी, बोक चॉय, बेसिल, ब्रोकोली, रेड कैप्सिकम, येलो कैप्सिकम, चेरी टोमैटो जैसी कई विदेशी सब्जियां उगाई जाती हैं और हरी पत्तियों वाली सब्जियों में पालक, मेथी, धनिया, गोभी, बंद गोभी, जैसी सब्जियां उगाई जाती हैं। पूर्वी ने बताया कि इसमें NFT टेबल लगाई जाती है जिसमें पानी का फ्लो होता है और फिर वह पानी वापस जाकर दोबारा रीसाइकल होता है, इस तरह की सब्जियों का सेवन करने से इम्यूनिटी भी बढ़ती है।

Read Also  Success Story :- एक साधारण परिवार में जन्म लिया और आज बुर्ज खलीफा को समझते हैं खिलौना।

आप भी कर सकते हैं हाइड्रोपॉनिक फार्मिंग

हाइड्रोपॉनिक फार्मिंग एक कम लागत वाली फार्मिंग है, इस खेती को करके आप लाखों रुपये कमा सकते हो। इस तरह की खेती को छोटे पैमाने पर किया जाए तो इसमें 2 से 3 लाख का खर्च आता है, इसमें हमें ग्रो लाइट्स, पानी का पंप, पोषण तत्व, और बुनियादी उपकरणों की जरुरत होती है, इस तरह की खेती से कम लागत में अधिक मुनाफा कमाया जा सकता है।

ऐसे ही और व्यापार से संबंधित आर्टिकल पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।