TaazaTales WhatsApp Channel Join Now
TaazaTales Telegram Channel Join Now

Malware and Virus :- में क्या है अंतर कौन है ज्यादा खतरनाक ?

मैलवेयर और वायरस में लोग कोई अंतर नहीं समझते, लोगों को लगता है कि मैलवेयर को ही वायरस कहते हैं और वायरस को ही मैलवेयर कहते हैं लेकिन ऐसा बिल्कुल नहीं है, आइए जानें क्या है मैलवेयर और वायरस।

मैलवेयर क्या है?

मैलवेयर कोई सॉफ़्टवेयर हो सकता है या कोई कोड हो सकता है या कुछ और भी हो सकता है जो आपके कंप्यूटर को नुकसान पहुंचा सकता है, मैलवेयर में बहुत सी चीजें आती हैं जैसे Spyware,Adware,Virus,Ransomware ये सब मैलवेयर ही हैं। वायरस भी एक मैलवेयर होता है। अगर साधारित शब्दों में समझें तो जो मैलवेयर होता है वह वायरस, एडवेयर, स्पाईवेयर, रैंसमवेयर इन सबका पिता होता है और ये सब इनके बच्चे हैं, (Malware and Virus) आइए अब इन्हें आपको डिटेल्स में समझाएँ।

(Virus) वायरस क्या है?

वायरस भी मैलवेयर का ही हिस्सा है जो वायरस होता है वह कभी भी अकेला आपके कंप्यूटर में नहीं घुस सकता, यह किसी फ़ाइल, डेटा, कोड किसी भी चीज के साथ आपके पीसी में जा सकता है और आपके कंप्यूटर को हार्म कर सकता है,आपने कभी सुना होगा कि हम कहते हैं पेंड्राइव को स्कैन कर दो या फॉर्मेट कर दो, शायद इसमें वायरस आ गया है, तो यह बात बिलकुल सही होती है कि वायरस किसी भी डेटा फाइल या कोड के साथ आपके पीसी में आ सकता है और आपकी फ़ाइल को करप्ट कर सकता है या आपके पीसी को अलग-अलग तरीके से खराब कर सकता है, आपके पीसी को हैंग कर सकता है तो यह था वायरस अब हम बाकी के मैलवेयर के बारे में जानेंगे

Read Also  February Best Smartphone :- Realme 12 Pro Plus ये स्मार्टफोन है सबका बाप।

(Adware) एडवेयर क्या है?

एडवेयर भी मैलवेयर का ही हिस्सा है इस मैलवेयर में जब आपको बहुत सारी एड्स दिखने लग जाती हैं तो इसे हम एडवेयर कह देते हैं क्योंकि इसमें हमें बिना हमारी मर्ज़ी के बहुत सारी एड्स दिखा कर लोग पैसा कमाते हैं जो कि एक ग़लत तरीका है ऐसे मैलवेयर को एडवेयर कहते हैं।

(Spyware) स्पाईवेयर क्या है?

स्पाईवेयर भी बाकी मैलवेयर्स की तरह मैलवेयर का ही हिस्सा है स्पाईवेयर आपके पीसी में किसी सॉफ़्टवेयर की शायता से डाला जाता है और आपकी जासूसी की जाती है तो इसे स्पाईवेयर कहते हैं।

(Ransomware) रैंसमवेयर क्या है?

रैंसमवेयर भी मैलवेयर का ही हिस्सा होता है इसमें आपके कंप्यूटर को हैक कर लॉक कर दिया जाता है जो सिर्फ एक कोड से खुल सकता है जो केवल उस हैकर को पता होता है जिसने आपके पीसी में रैंसमवेयर अटैक किया होता है आप अपने पीसी को किसी भी तरह से एक्सेस नहीं कर सकते इसे हटाने के लिए हैकर आपसे बिटकॉइन या अन्य किसी चीज की फ़ीस लेता है।

कैसे बचें मैलवेयर से

मैलवेयर अटैक से बचने के लिए आप अपने कंप्यूटर में एंटीवायरस इंस्टॉल कर के रखें जो कोई भी गैर-गतिविधि होने पर उसे ब्लॉक या आपको आगाह कर देगा जिससे आप स्तर्क हो जाएंगे और ध्यान रहे अगर हो सके तो आप पेड एंटीवायरस ही इंस्टॉल करें थर्ड पार्टी से डाउनलोड किए गए एंटीवायरस में भी किसी भी तरह का मैलवेयर हो सकता है।

Read Also  Success Story Of Shiv Nader :- मुकेश अंबानी को भी छोड़ दिया पीछे

ऐसी और भी जानकारी के लिए लिंक पर टैप करें। Click Here